National Girl Child Day Quotes in Hindi | राष्ट्रीय बालिका दिवस 2022

National Girl Child Day Quotes in Hindi | National Girl Child Day Shayari | राष्ट्रीय बालिका दिवस 2022
आज 24 जनवरी 2022 को राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) है. यह दिवस हर साल 24 जनवरी को मनाई जाती है. राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरूआत सन 2008 में महिला एवम बाल विकास मंत्रालय (Ministry of Women and Child Development) के द्वारा शुरू की गयी है.

यह दिवस इसलिए मनाई जाती है क्यूंकि भारतीय समाज में लडकियों को जिस असमानता का सामना करना पड़ता है, उसके बारे में जागरूकता फैलाने के लिए यह दिवस हर साल 24 जनवरी को मनाई जाती है. आप इस दिन ही नही बल्कि हर दिन लडकियों को मान सम्मान जरुर दे और उनकी रक्षा जरुर करे चाहे वो आपकी जानकार हो या नही.

National Girl Child Day Quotes in Hindi – राष्ट्रीय बालिका दिवस शायरी

बेटी को मत समझो भार, 
यह तो है जीवन का आधार.
राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाये
अगर बीटा है वारिस 
तो बेटी है पारस
कहती है बाहे पसार 
मुझे चाहिए प्यार, दुलार 

बेटी की अनदेखी क्यों 
करता है निष्ठुर संसार
 
सोचो जरा हमारे बिन 
बसा सकोगे घर परिवार
 
गर्भ से लेकर योवन तक 
मुझ पर लटक रही तलवार 

मेरी व्यथा, वेदना का 
अब हो स्थाई उपचार 
बेटी को चाँद जैसा मत बनाओ
की हर कोई घूर कर देखे,
बेटी को सूरज जैसा बनाओ ताकि
घूरने से पहले नज़रे झुक जाए.   
जिस घर में होता बेटी का सम्मान,
वह घर होता स्वर्ग समान
महाक सा जाता है 
वह घर और आँगन
जब कदम रखती है बेटी
जोड़ने खुशियों के बंधन 
लक्ष्मी-नारायण, राधे-श्याम, सीता-राम, गौरी-शंकर
जब पूजनीय भी पहले नारी फिर नर, 
तो फिर क्यों नही देते 
लडकियों को जन्म का अवसर.
दुश्मनों का मुकाबला 
डट के कर सकती है 'बेटी'
मत बांधो बेडियो में 
ऊँची उड़ान भर सकती है 'बेटी'
बेटी को जो दे 
शिक्षा और पहचान,
वही माता-पिता है महान.
घर आँगन का 
श्रृंगार है बेटिया,
रिश्तो का आधार
है बेटिया.
दुनिया की असली दौलत उसी ने पाई है,
जिसके घर में लक्ष्मी के रूप में बेटी आई है.
लक्ष्मी का वरदान है बेटी, 
धरती पर भगवान् है बेटी
बेटी को अधिकार दो,
बेटे जैसा प्यार दो.
बेटी बचाओ, बेटी पढाओ
जीने का उसको भी अधिकार, 
चाहिए उसे थोडा सा प्यार.
जन्म से पहले न उसे मारो,
कभी तो अपने मन में विचारो. 
शायद वही बन जाए सहारा,
डूबते को मिल जाए किनारा.
बेटिया सब के मुकद्दर में
कहा होती है
घर खुदा को जब पसंद
आता है, 
बस वहा बेटिया होती है 
वो शाख है न फूल,
अगर तितलिया न हो. 
वो देश भी देश नहीं है,
जहा बेटिया शुरक्षित न हो.
माँ चाहिए...
बहन चाहिए...
पत्नी चाहिए...
फिर बेटी क्यों नही चाहिए...?
बेटिया है तभी 
आगे की दुनिया है,
है सबका परिवार
इनके बिना थम जाएगा
एक दिन सारा संसार 

आज के लिए इतना ही बस अंत में कहना चाहूँगा की चाहे बालिका दिवस हो या ना हो फिर भी हर लडकियों को इज्ज़त दो, उनकी रक्षा करो. हमारी और से आपको बालिका दिवस की हार्दिक शुभकामनाये. धन्यवाद!

यह भी जरुर पढ़े:

Leave a Comment