Hanuman Jayanti 2022 हनुमान जयंती कब है | Hanuman Jayanti Quotes in Hindi

Hanuman Jayanti 2022: हनुमान जयंती कब है, हनुमान जयंती क्यों मनाई जाती है, हनुमान जयंती पूजा विधि, हनुमान जयंती शुभ मुहूर्त आदि सभी सवाल के जवाब जानने के लिए यह आर्टिकल पूरा पढ़े.

हिन्दू नववर्ष आने के बाद त्योहारों की लाइन लग जाती है ऐसे में हमे भी कभी कभी नही पता चलता की कौनसा त्यौहार कब है तो इसलिए आज हम इस आर्टिकल में हनुमान जयंती के बारे में जानेंगे.

Hanuman Jayanti in Hindi – हनुमान जयंती

हनुमान जयंती समस्त भारत में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है, हनुमान जयंती के इस अवसर पर भारत में अलग अलग गजहो पर बड़ी-बड़ी झांकिया निकाली जाती है, और कुछ लोग हनुमान जयंती के दिन व्रत का पालन करते है.

हनुमान जयंती साल में दो बार आती है जिसमे से पहली हनुमान जयंती चैत्र मास के शुकलपक्ष पूर्णिमा (मार्च अप्रैल के बीच) में आती है और दूसरी कार्तिक मास की कृष्णपक्ष चतुर्दशी (अक्टूबर) में आती है. हनुमान जयंती की पहली तिथि यानी चैत्र मास की शुक्लपक्ष पूर्णिमा में विजय अभिनन्दन महोत्सव के रूप में मनाई जाती है और दूसरी तिथि यानी कार्तिक मास की कृष्णपक्ष चतुर्दशी को हनुमान जी का जन्म हुआ था.

हनुमान जयंती क्यों मनाई जाती है?

जैसा की हमने पहले की जान लिया की साल में दो बार हनुमान जयंती मनाई जाती है एक चैत्र मास में और दूसरी कार्तिक मास में, इनमे से चैत्र मास की पूर्णिमा के दिन विजय अभिनन्दन महोत्सव मनाया जाता है पुराणी कथाओ के अनुसार इस दिन हनुमान जी सूर्य को फल समझ कर खाने के लिए दोड़े थे और उसी दिन राहु भी सूर्य को अपना ग्रास बनाने के लिए आये थे लकिन सूर्यदेव ने हनुमान जी को देख कर राहु समझ लिए इसलिए इस दिन को विजय अभिनन्दन महोत्सव मनाते है.

कार्तिक मास की कृष्णपक्ष चतुर्दशी को प्रात: 06:03 बजे एक गुफा में हनुमान जी का जन्म माता अंजनी के गर्भ से हुआ था इसलिए कार्तिक मास की कृष्णपक्ष चतुर्दशी को हनुमान जी का जन्मदिवस के रूप में हनुमान जयंती मनाई जाती है.

हनुमान जयंती कब मनाई जायेगी?

हनुमान जयंती साल में दो बार मनाई जायेगी इसमें से पहली हनुमान जयंती चैत्र मास के शुक्लपक्ष पूर्णिमा यानी 16 अप्रैल 2022 को मनाई जाएगी और दूसरी हनुमान जयंती कार्तिक मास के कृष्णपक्ष चतुर्दशी यानी 24 अक्टूबर 2022 को मनाई जायेगी इस दिन दिवाली भी है.

हनुमान जयंती शुभ मुहूर्त

इस बार हनुमान जयंती रवि योग, हस्त और चित्रा नक्षत्र में मनाई जायेगी 16 अप्रैल को सुबह 05:55 AM से रवि योग शुरू होगा और इसका समापन 08:40 AM को होगा. इस दिन सुबह 08:40 AM तक हस्त नक्षत्र है इसके बाद चित्रा नक्षत्र की शुरुआत होगी.

हनुमान जयंती पूजा विधि

  • हनुमान जयंती के दिन सुबह जल्दी उठ कर स्नान आदि करके नए व् साफ सुथरे वस्त्र धारण करे
  • इसके बाद घर के मंदिर की साफ़ सफाई करे और पाटे पर लाल कपडा बिछा कर हनुमान जी की मूर्ति स्थापित करे
  • पूरे घर में गंगाजल का छिडकाव करे
  • हनुमान जी को जनेऊ,सिन्दूर, और गेंदा फूल व् गुलाब फूल व् कनेर फूल अर्पित करे
  • हनुमान चालीसा का पाठ करे
  • हनुमान जी की पूजा करते समय ॐ श्री हनुमते नम: मंत्र का जाप करे
  • इस दिन घर में सुन्दरकाण्ड का पाठ जरुर करे

Hanuman Jayanti Quotes in Hindi

सब कुछ लहै तुम्हारी सरना, 
तुम रक्षक काहू को डरना,
आपन तेज़ सम्हारो आपे,
तीनो लोक हांक ते कापे
हनुमान जयंती की हार्दिक शुभकामनाए
आया जन्म दिवस राम भक्त हनुमान का
अंजनी पुत्र लाल का पवन पुत्र हनुमान का
बोलो सब मिलकर जयकार हनुमान की
सबको बधाई जन्म दिवस हनुमान की

हनुमान जयंती शायरी

बजरंग जिनका नाम है,
सत्संग जिनका काम है,
ऐसे हनुमत लाल को मेरा बारम्बार प्रणाम है
जिनको श्रीराम का वरदान है, 
गदाधारी जिनकी शान है, 
बजरंगी जिनकी पहचान है, 
संकट मोचन वो हनुमान है 
जय श्रीराम जय हनुमान

Hanuman Jayanti Quotes in Hindi

भूत पिसाच निकट नही आवे
महावीर जब नाम सुनावे
नासे रोग हरे सब पीरा
जपत निरंतर हनुमत वीरा 
हनुमान तुम बिन राम हैं,
अधूरे करते तुम भक्तों के सपने पूरे, 
मां अंजनी के तुम हो राजदुलारे,
राम-सीता को लगते सबसे प्यारे

धन्यवाद!

यह भी पढ़े:

Team: HindiGrab.in

Leave a Comment