Basant Panchami in Hindi 2022 | Basant Panchami Quotes in Hindi

Basant Panchami in Hindi 2022 | Basant Panchami Quotes in Hindi | बसंत पंचमी क्यों मनाई जाती है | बसंत पंचमी कथा | बसंत पंचमी कब है | बसंत पंचमी शुभ मुहूर्त | बसंत पंचमी पर किसकी पूजा होती है. अगर आप भी इन सब प्रश्नों का उतर जाना चाहते है तो यह आर्टिकल अंत तक पढ़ते रहे. इस आर्टिकल में हम बसंत पंचमी के बारे में सब कुछ जानेंगे.

बसंत पंचमी हर वर्ष माघ मास की शुकल पक्ष पंचमी के दिन पूरे भारत में बड़े ही धूम धाम से मनाई जाती है, और इस वर्ष बसंत पंचमी 5 फरवरी 2022 को है. इस बड़े से अवसर के लिए आज हम आपको बसंत पंचमी की कथा बताएँगे, तो चलिए शुरू करते है और जानते है Basant Panchami in Hindi.

Basant Panchami in Hindi – बसंत पंचमी क्यों माने जाती है? बसंत पंचमी कथा

हमारे हिन्दू धर्म के शास्त्रों के अनुसार जब संसार की रचना हो गयी थी तो संसार में किसी भी प्रकार की स्वर, संगीत और आवाज नही थी. संसार को ऐसा देख कर सभी देवी देवता आश्चर्यचकित होकर त्रिदेवो के पास जाकर कहने लगे की संसार कुछ भी हलचल, स्वर, संगीत, और किसी भी प्रकार की आवाज नही है. सभी देवी देवताओ की यह बात सुनकर ब्रह्मा जी ने भगवान् विष्णु जी और भगवान् शिव जी से कहने लगे की मै इसका उपाय करता हु.

इसके बाद ब्राह्मी जी ने अपने कमंडल से जल हाथ में लेकर मंत्रो का उचारण करने लगे और वह जल पृथ्वी पर छिड़क दिया उस जल की बूंदों से एक देवी उत्पन हुई जिनके हाथो में वीणा, तथास्तु मुद्रा, पुस्तक, और माला थी. इन देवी का नाम माँ सरस्वती था सभी देवी देवता ने माँ सरस्वती को प्रणाम किया और कहने लगे की इस संसार में मधुर ध्वनी, और महक भर दो. इस प्रकार माँ सरस्वती ने इस पृथ्वी पर मधुर ध्वनी, महक, और ससंगीत भर दिया जिससे यह संसार बहुत ही शुहाना लगने लग गया था.

जिस दिन माँ सरस्वती उत्पन होकर पूरी प्रकृति के चारों ओर अपनी खूबसूरती बिखेरती है वह दिन बसंत पंचमी के नाम से जाना गया था. और इस अवसर पर पूरे विश्व में आज भी फसल में नए फूल और मंद मंद हावा के साथ फूलो की महक आती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन शादी भी होती है क्यूंकि यह दिन बहुत जायदा शुभ होता है.

बसंत पंचमी शुभ मुहूर्त

बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त 5 फरवरी को सुबह 06:45 AM से लेकर दोपहर 12:35 PM तक है.

बसंत पंचमी पूजा विधि

बसंत पंचमी के दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त के उठकर स्नान के बाद पीले रंग के वस्त्र धारण करके सूर्य देव को अर्घ दे, फिर अपने घर के मंदिर में साफ़ सफाई करके पीले रंग के फुल या सरसों के फूल और मिठाई माँ सरस्वती को अर्पण करे. माँ सरस्वती की तश्वीर के आगे धुप, दिया और चावल का अभिषेक करे.

Basant Panchami Quotes in Hindi

आई बसंत और खुशिया लायी
कोयल गाती मधुर गीत प्यार के
चारो और जैसे सुगंध छाई 
फूल अनेको महके बसंत के
बसंत पंचमी की हार्दिक बधाई 
पीले पीले सरसों के फूल,
पीली उड़े पतंग,
रंग बरसे पीला और 
छाए सरसों सी उमंग.
आपके जीवन में रहे 
सदा बसंत के रंग.
जीवन का यह बसंत खुशिया दे अनन्त
प्रेम और उत्साह से भर दे जीवन के रंग
बसंत पंचमी की शुभकामनाये 

Basant Panchami Quotes in Hindi

सरस्वती नमस्तुभ्यम
वरदे कामा रूपिणी!
विद्यारंभम करिश्यमी,
सिद्धिर बवाटू मे सदा!
इस वसंत पंचमी मां सरस्वती आपको हर वो विद्या दे जो आपके पास नहीं है,
जो है उस पर चमक दे जिससे आपकी दुनिया चमक उठे।
वसंत पंचमी और सरस्वती पूजा की शुभकामनाएं!
सूरज हर शाम को ढल ही जाता है,
पतझड बसंत में बदल ही जाता है,
मेरे मन मुसीबत में हिम्मत मत हारना ,
समय कैसा भी हो गुजर ही जाता है…
बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये

बसंत पंचमी के दिन किसकी पूजा की जाती है?

बसंत पंचमी के दिन माँ सरस्वती की पूजा की जाती है.

बसंत पंचमी कब है?

बसंत पंचमी माघ मास की शुकल पक्ष पंचमी के दिन है (5 फरवरी 2022)

Conclusion

आज हमने इस आर्टिकल में Basant Panchami Quotes in Hindi और बसंत पंचमी के बारे में जाना है. अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. आज के लिए इतना ही तब तक के लिए Hindi Grab की और से आपको और आपके परिवार को बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये.

यह भी देखे:

Leave a Comment