Ekadashi Vrat Kaise Kare | Ekadashi Vrat January 2022

Ekadashi Vrat Kaise Kare | Ekadashi Vrat January 2022 | एकादशी व्रत कैसे करे | एकादशी व्रत 2022.

हरे कृष्णा, क्या आप एकादशी व्रत करना चाहते है लकिन आपको पता नही है की Ekadashi Vrat Kaise Kare तो यह आर्टिकल आपके लिए बहुत फायदेमंद है. क्यूंकि इस आर्टिकल में हम एकादशी व्रत कैसे करे, एकादशी व्रत कब शुरू करे, और एकादशी व्रत में क्या खाये के बारे में सब कुछ जानेगे.

एकादशी तिथि महीने में दो बार आती है, पूर्णिमा के बाद आने वाली एकादशी को कृष्णपक्ष एकादशी कहते है और अमावस्या के बाद आने वाली एकादशी को शुकलपक्ष एकादशी कहते है. इन दोनों एकादशी का हमारे भारतीय सनातन संस्कृति में बहुत महत्व है. जो कोई भी हर महीने इन दोनों एकादशी का व्रत पूरी विधि विधानों के साथ रखता है उसके इस जन्म व् पूर्व जन्म के सभी पाप समाप्त हो जाते है, और उसे मृत्यु के बाद भगवान् का धाम मिलता है.

एकादशी व्रत रखने के अनगिनत फायदे है, तो आप भी हर महीने कृष्णपक्ष और शुक्लपक्ष एकादशी का व्रत रखकर इन फायदों का लाभ उठा सकते है. तो चलिए शुरू करते है और जानते है की Ekadashi Vrat Kaise Kare.

Ekadashi Vrat Kaise Kare – एकादशी व्रत कैसे करे

एकादशी व्रत का मतलब है की आपको एकादशी व्रत के दिन अन्न का एक दाना भी ग्रहण नही करना है. यह एकादशी का व्रत आप निर्जला, निराहार या फलाहार रख सकते है इसमें निर्जला का मतलब है पूरे दिन बिना पानी पिए और बिना कुछ खाये व्रत रखना, और निराहार का मतलब है बिना कुछ खाये इसमें आप पानी पी सकते है, और फलाहार का मतलब है इसमें आप पानी और फल फ्रूट का सेवन सकते है. बस याद रखें की इस दिन अन्न का एक दाना भी ग्रहण ना करे.

पुरानो में एकादशी व्रत के बारे में कहा गया है की एकादसी के दिन व्रत रखने वाले व्यक्ति को दशमी के दिन (यानी एकादशी से एक दिन पहले) शाम को सूर्यास्त के बाद भोजन नही करना चाहिए ऐसे में आप सूर्यास्त से पहले ही अपना भोजन कर ले और रात को सोते समय भगवान् का ध्यान करना चाहिए, और एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करके भगवान् श्री कृष्ण या भगवान् विष्णु की पूजा करनी चाहिए. पूजा करने के बाद हरे कृष्णा महा मंत्र का जाप करना चाहिए (हरे कृष्ण महा मंत्र: हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे).

व्रत रखने वाले को पूरे दिन नींद, झूठ, छल कपट से बचना चाहिए और टीवी, मोबाइल, लैपटॉप देखने में भी समय नही गवाना चाहिए, और चाय, कॉफ़ी या कोई नशीले पदार्थ से दूर रहे ये सभी मन को भगवान् से दूर करने वाले कर्म है. इस दिन सिर्फ भगवान् को ही याद करे और हो सके तो पूरे दिन भगवान् के नाम, गान, कीर्तन, श्रवण, व् भगवत गीता का पठन, और हरे कृष्ण महा मंत्र का जाप करे.

अगर आप इन सब बातो का ध्यान रख कर एकादशी व्रत का पालन करते है तो इस व्रत का आपको बहुत बड़ा लाभ मिलता है.

एकादशी व्रत में क्या-क्या खा सकते है?

अगर आप एकादशी व्रत निर्जला रख सकते है तो यह बहुत बढ़िया है लकिन आप बिना कुछ खाये और पीये नही रह सकते है तो आप पानी और फल फ्रूट ग्रहण कर सकते है और आपको मोबाइल, लैपटॉप, टीवी, चाय, नींद, और कॉफ़ी से बिलकुल दूर रहना है.

Conclusion

आज हमने इस आर्टिकल में Ekadashi Vrat Kaise Kare और एकादशी व्रत में क्या-क्या खा सकते है? के बारे में जाना है. अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो यह आर्टिकल अपने घरवालो और एकादशी के व्रत का पालन करने वाले दोस्तों के साथ जरुर करे. धन्यवाद!

यह भी जरुर पढ़े:

Leave a Comment